भाजपा धर्म का इस्तेमाल कर राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास कर रही : ममता
नई​ दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को भाजपा पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि वह लोगों को गुमराह करने के लिए धर्म का इस्तेमाल कर राजनीतिक लाभ हासिल करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने राज्य के विभिन्न हिस्सों में सशस्त्र राम नवमी रैलियों के लिए भाजपा पर निशाना साधा और भाजपा पर बंगाल के शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने का आरोप लगाया।

ममता ने दार्जिलिंग में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार अमर सिंह राय के पक्ष में एक चुनावी रैली में कहा, “भाजपा धर्म के नाम पर लोगों को गुमराह कर रही है। चुनाव से पहले वे इसे बंगाल में लोगों को विभाजित करने के लिए एक औजार के रूप में उपयोग कर रहे हैं। बंगाल की संस्कृति कभी भी हिंसा की राजनीति का समर्थन नहीं करती है। वे तलवारों और गदाओं के साथ रैलियां निकाल रहे हैं।”

ममता ने सवाल किया, “आप तलवारों से किसका गला काटना चाहते हैं? गदा से किसका सिर चूर करना चाहते हैं?” उन्होंने जोर दिया कि वह पश्चिम बंगाल में एनआरसी की अनुमति नहीं देंगे। ममता ने कहा, “वे (भाजपा) कहते हैं कि वे बंगाल में एनआरसी का संचालन करेंगे। लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मैं अपने राज्य में इसकी अनुमति नहीं दूंगा।”

ममता ने चुटकी लेते हुए कहा कि उन्होंने भाजपा के विपरीत, दार्जिलिंग सीट से एक भूमिपुत्र को मैदान में उतारा है जबकि भाजपा ने मणिपुर के एक निवासी को उम्मीदवार बनाया है। उन्होंने कहा, “यह दुखद है कि भाजपा को दार्जिलिंग में कोई उम्मीदवार नहीं मिला और उन्हें चुनाव लड़ने के लिए मणिपुर से उम्मीदवार लाना पड़ा।” ममता ने दावा किया कि भाजपा केंद्र में वापस सत्ता में नहीं आएगी और कई राज्यों में सीटें नहीं जीत पाएगी।

कोई जवाब दें