Davis Cup 2019: इटली से हारकर डेविस कप फाइनल्स की रेस से बाहर हुआ भारत
कोलकाता: भारतीय टेनिस टीम डेविस कप (Davis Cup World Group Qualifier) की मेजबानी का फायदा नहीं उठा सकी और इटली से हारकर फाइनल्स की रेस से बाहर हो गई. इटली ने भारत को पांच मैचों के मुकाबले में 3-1 से हराकर डेविस कप फाइनल्स (Davis Cup finals) में जगह बनाई. टूर्नामेंट का फाइनल्स (Davis Cup 2019) इसी साल सितंबर में खेला जाएगा. भारत को इस राउंड में जगह बनाने के लिए अब अगले साल तक का इंतजार करना पड़ेगा. भारतीय टीम अब एक बार फिर क्वालिफायर मुकाबले खेलेगी, जिसके नतीजे से यह तय होगा कि वह डेविस कप फाइनल्स में जगह बना पाती है या नहीं.

इटली ने डेविस कप वर्ल्ड ग्रुप क्वालीफायर्स में पहले ही दिन दोनों सिंगल्स मुकाबले जीतकर 2-0 की बढ़त बना ली थी. मुकाबले के दूसरे दिन शनिवार (2 फरवरी) को तीन मुकाबले होने थे. भारत को अपनी उम्मीदें जीवित रखने के लिए ये तीनों ही मुकाबले जीतने जरूरी थे. दूसरी ओर, इटली को इनमें से एक मुकाबला ही जीतना जरूरी था. इटली अपने मकसद में कामयाब रहा और उसने एक मैच जीतकर अगले राउंड में जगह बना ली.

दूसरे दिन पहला मुकाबला डबल्स में हुआ. इस मुकाबले में भारत की ओर से रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की जोड़ी उतरी. भारतीय जोड़ी ने माटेओ बेरेटिनि और सिमोन बोलेली की जोड़ी को तीन सेटो तक चले मुकाबले में मात दी. बोपन्ना-शरण ने यह मैच एक सेट गंवाने के बाद 4-6, 6-3, 6-4 से अपने नाम किया. इसी के साथ भारत ने स्कोर 1-2 कर लिया.

इस मैच के बाद रिवर्स सिंगल्स मैच खेला गया. इसमें आंद्रेस सेप्पी और प्रजनेश गुणास्वेरन का सामना हुआ. सेप्पी ने प्रजनेश गुणेश्वरन को 6-1, 6-4 से मात देकर इस मुकाबले का अंत किया. आंद्रेस सेप्पी की जीत के साथ ही इटली ने 3-1 की बढ़त ले ली. ऐसे में रामकुमार रामनाथन तथा माटेओ बेरेटिनि के बीच दूसरा सिंगल्स मैच का परिणाम विजेता नहीं बदल सकता था. इसलिए आखिरी मैच नहीं कराया गया.

भारतीय टीम के गैरखिलाड़ी कप्तान महेश भूपति हैं. भारतीय कप्तान ने दावा किया था कि घरेलू मैदान पर मुकाबला होने के कारण भारतीय टीम इटली को हरा सकती है. इटली ने उनके दावों की हवा निकाल दी. उसने इतना बेहतर खेल दिखाया कि पांच मैचों के इस मुकाबले में पांचवें मैच की जरूरत ही नहीं पड़ी.

कोई जवाब दें