कांग्रेस ने ईव्हीएम में गडबड़ी का अभियान छेडा, सरकार हमारी बन रही- मुख्यमंत्री शिवराज
भोपाल। कांग्रेस पार्टी ने मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान ईव्हीएम में गडबड़ी को लेकर अभियान छेड रखा है, यह कांग्रेस की हताशा बताता है कि कांग्रेस चुनाव में हार रही हैं। यह बात मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री आवास भोपाल में बुधवार 5 दिसम्बर 2018 को आनन-फानन में बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कही।

प्रेस कांफ्रेंस की सूचना भारतीय जनता पार्टी के मीडिया विभाग द्वारा पत्रकारों को दी गई थी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एक सवाल के जवाब में कहा कि सरकार हमारी बन रही है। सरकार बनाने के लिए हम निश्चिंत हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हार की पूर्व भूमिका तैयार कर रही है, इसलिए ईव्हीएम की गडबड़ी का आरोप लगाकर अभियान छेड रखा है। कांग्रेस पार्टी चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा करने का काम कर रही है। चुनाव आयोग की निष्पक्षता को लेकर ही कांग्रेस पार्टी सवालिया निशान लगा रही है, संवैधानिक संस्था पर अविश्वास करके कांग्रेस चुनाव को मजाक बनाने की कोशिश कर रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हार का ठीकरा ईव्हीएम पर फोडे इसलिए आरोपों की झडी लगा रखी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि कांग्रेस ने चुनाव प्रक्रिया में लगे सभी लोगों पर आरोप लगाया है कर्मचारी, पुलिस सभी बेईमानी कर रहे है। इस तरह का संदेह और प्रशासन पर दवाब का वातावरण कांग्रेस बना रही है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि मतदान के दिन 28 ​नवम्बर को दिन में ही कांग्रेस पार्टी अर्नगल प्रलाप कर रही थी। कांग्रेस पार्टी के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तीन बजे चुनाव आयोग को पत्र ​लिख दिया और ट्वीट भी कर दिया।

मुख्यमंत्री ने अमानवीयता के संबंध में उदाहरण देते हुए बताया कि भाजपा के एक कार्यकर्ता रघुवीर दांगी की विदिशा में मृत्यु हो गई थी, श्री दांगी के परिवार के लोगों से मिलने के लिए जाना था लेकिन चुनाव आयोग ने वहां जाने की अनुमति नहीं दी थी। मुख्यमंत्री ने बताया कि जिस तरह से कांग्रेस पार्टी ने चुनाव आयोग को कटघरे में खड़े करने की कोशिश की है जबकि देखा जाए तो चुनाव आयोग ने सबसे ज्यादा सख्ती बीजेपी के साथ की है। चुनाव आयोग ने कई बार बीजेपी के साथ अमानवीयता बरती है।

मुख्यमंत्री से जब सवाल किया गया कि आपने चुनाव के दौरान सर्वाधिक दौरे किये हैं, जनआर्शीवाद यात्रा निकाली, सभी विधानसभा क्षेत्रों में गए और सोशल मीडिया का भी सर्वाधिक उपयोग किया, सोशल मीडिया क्या भाजपा या कांग्रेस के पक्ष में रहा या सोशल मीडिया ने जनता के साथ अन्याय किया क्योंकि सोशल मीडिया पर फेक न्यूज और फेक वीडियो की भरमार रही है, इस पर उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की जनता उनके साथ है।

कोई जवाब दें