प्रधानमंत्री ने जापान के टोक्‍यो में ‘मेक इन इंडिया’ सेमिनार को संबोधित किया
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज टोक्‍यो में ‘मेक इन इंडिया : अफ्रीका में भारत-जापान साझेदारी और डिजिटल भागीदारी’ पर एक संगो‍ष्‍ठी को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री ने विस्‍तार से बताया कि केन्‍द्र सरकार ने ‘कारोबार में सुगमता बढ़ाने’ के साथ-साथ ‘देश के नागरिकों के लिए जीवन यापन में सहूलियत’ सुनिश्चित करने पर किस तरह से अपना ध्‍यान केन्द्रित कर रखा है। उन्‍होंने भारत में बड़ी संख्‍या में जापानी कंपनियों की मौजूदगी पर खुशी जताई। भारत में कई महत्‍वपूर्ण औद्योगिक परियोजनाओं में जापान के एक साझेदार होने की बात को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री ने पिछले चार वर्षों के दौरान आर्थिक मोर्चे पर भारत के शानदार प्रदर्शन के बारे में विस्‍तार से बताया। उन्‍होंने कहा कि भारत आज दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्‍यवस्‍था है। उन्‍होंने भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में हुए अन्‍य प्रमुख बदलावों का उल्‍लेख किया जिनमें अनौपचारिक अर्थव्‍यवस्‍था से औपचारिक अर्थव्‍यवस्‍था की ओर उन्‍मुख होना, डिजिटल लेन-देन, वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) इत्‍यादि भी शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की तेजी से बढ़ती अर्थव्‍यवस्‍था, मध्‍यम वर्ग के बढ़ते आकार और विशाल युवा आबादी की बदौलत जापानी निवेशकों के लिए असंख्‍य नए अवसर सृजित हुए हैं। इस संदर्भ में उन्‍होंने किफायती विनिर्माण, आईटी उद्योग, इलेक्‍ट्रिक वाहनों से आवाजाही (मोबिलिटी), इत्‍यादि सेक्‍टरों का भी उल्‍लेख किया।

प्रधानमंत्री ने भारत और जापान के बीच साझा मूल्‍यों पर विशेष जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि दोनों ही देश भारत-प्रशांत, दक्षिण एशिया और अफ्रीका सहित दुनिया के अन्‍य हिस्‍सों में मजबूत विकास साझेदारियां विकसित किए जाने के बारे में आशान्वित हैं।

कोई जवाब दें