​​​​​​​पर्यटन क्षेत्र भारत की नियति बदल सकता है : श्री पीयूष गोयल
केन्‍द्रीय रेल एवं कोयला मंत्री श्री पीयूष गोयल ने आज नई दिल्‍ली में केन्‍द्रीय पर्यटन मंत्री श्री के. जे. अल्‍फोंस और मोरक्‍को के पर्यटन मंत्री श्री मोहम्‍मद साजिद की गरिमामयी उपस्थिति में ‘प्रथम’ भारत पर्यटन मार्ट (आईटीएम 2018) का उद्घाटन किया। भारत पर्यटन मार्ट का आयोजन पर्यटन मंत्रालय द्वारा भारतीय पर्यटन एवं आतिथ्य संघों के महासंघ (फेथ) की सहभागिता और राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों की सरकारों के सहयोग से 16 सितम्‍बर से लेकर 18 सितम्‍बर, 2018 तक आयोजित किया जा रहा है। इस अवसर पर पर्यटन मंत्रालय में सचिव, इस मंत्रालय के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारीगण, फेथ के अध्‍यक्ष/सदस्‍य और देश–विदेश के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

श्री पीयूष गोयल ने भारत पर्यटन मार्ट का उद्घाटन करते हुए पर्यटन मंत्रालय द्वारा पांच वर्षों के भीतर 100 अरब अमेरिकी डॉलर की एफटीए (विदेशी पर्यटकों का आगमन) राशि के महत्‍वाकांक्षी लक्ष्‍य को प्राप्‍त कर लेने की कामना की।

मंत्री ने कहा कि जब तक बुनियादी ढांचागत सुविधाओं की स्‍थापना नहीं हो जाएगी, तब तक भारत एक अत्‍यंत पसंदीदा पर्यटन गंतव्‍य के तौर पर नहीं उभर सकता है। उन्‍होंने कहा कि वर्तमान सरकार इन सुविधाओं को विकसित करने में जुटी हुई है जिनमें चौबीसों घंटे विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करना, विभिन्‍न प्रकार की नवीकरणीय ऊर्जा को प्रोत्‍साहित करना और सुदूरवर्ती गंतव्‍यों को बढि़या से जोड़कर कनेक्टिविटी को बेहतर करना शामिल हैं। मंत्री ने यह भी कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने में जो चीज सबसे ज्‍यादा कारगर साबित होगी वह है सरकार का स्‍वच्‍छता अभियान। इस अभियान से भारत को सभी विदेशी पर्यटकों का पसंदीदा देश बनाने में काफी मदद मिलेगी। पर्यटन क्षेत्र में आमदनी को कई गुना बढ़ाने की क्षमता का उल्‍लेख करते हुए मंत्री ने कहा कि पर्यटन औपचारिक एवं अनौपचारिक क्षेत्रों में अनगिनत रोजगार अवसर सृजित करता है और यह भारत की नियति बदल सकता है। रेल मंत्री ने यह भी कहा कि देश के युवा इस क्षेत्र में उद्य‍मी, सेवा प्रदाता, उद्यमी इत्‍यादि बन सकते हैं।

इस अवसर पर पर्यटन मंत्री ने घोषणा की कि अन्‍य अंतर्राष्‍ट्रीय पर्यटन मार्ट की तर्ज पर ही अब से हर साल आईटीएम का आयोजन किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि आईटीएम का आयोजन प्रत्‍येक वर्ष सितम्‍बर में किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि भौगोलिक, सांस्‍कृतिक, पारंपरिक, स्‍थापत्‍य कला एवं धर्मों इत्‍यादि में विविधता की दृष्टि से भारत इतना विशाल है कि यहां आने वाले पर्यटक को हर बार नया अनुभव होगा। श्री अल्‍फोंस ने यह भी कहा कि नई ई-वीजा व्‍यवस्‍था के बल पर भारत में आगमन और भी ज्‍यादा आसान हो गया है। ई-वीजा व्‍यवस्‍था अब 166 देशों के लिए खुली हुई है।

भारत पर्यटन मार्ट 2018 में विश्‍व भर जैसे कि उत्तरी अमेरिका, पश्चिमी यूरोप, पूर्वी एशिया, लैटिन अमेरिका, सीआईएस देशों इत्‍यादि से लगभग 225 मेजबान अंतर्राष्‍ट्रीय खरीदार एवं मीडिया कर्मी भाग ले रहे हैं।

लगभग 225 मंडप (स्‍टॉल) विक्रेताओं को उपलब्‍ध कराए गए हैं ताकि वे खरीदारों के साथ बातचीत कर सकें।

कोई जवाब दें