समावेशी, सुगम, विश्वसनीय एवं नैतिक मतदान के लिए कार्य करें- मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी
भोपाल। प्रशासन अकादमी भोपाल में आज स्वीप (Systamatic voters Education and Electoral Participation) (व्यवस्थित मतदाता शिक्षा और चुनावी भागीदारी) गतिविधियों के उन्मुखीकरण के लिए राज्य स्तरीय प्रशिक्षण एवं कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत,जिला स्वीप नोडल अधिकारी एवं सहायक नोडल अधिकारी उपस्थित थे।

कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ता राव ने कहा कि निर्वाचन कार्य निष्पक्ष शांतिपूर्ण, समावेशी, सुगम, विश्वसनीय एवं नैतिक होना चाहिये। इसके लिये सभी अधिकारी कार्य करें। निर्वाचन जैसे महत्वपूर्ण कार्य में संवेदनशीलता का होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 के चुनाव के समय से स्वीप गतिविधियां शुरू हुई। तब से अब तक बहुत परिर्वतन हो चुके हैं। आज बहुत सारे संसाधन उपलब्ध हैं। नवीन तकनीकों का उपयोग कर ई.व्ही.एम./व्ही.व्ही.पेट. का प्रचार- प्रसार किया जाये। स्वीप कैलेंडर एवं प्लान बनाकर यह कार्य आसानी से किया जा सकता है। कार्यशाला के माध्यम से नये विचारों के आदान-प्रदान का अवसर प्राप्त होता है। रचनात्मकता तथा अनुभव का लाभ सभी को मिलता हैं।

संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री विकास नरवाल ने कहा कि लोगों को अधिक से अधिक मतदान करने के लिए प्रेरित किया जाना है। नये मतदाताओं को जोडने, पंजीयन करने, दिव्यांगजनों, वृद्धजनों, ग्रामीणों, सर्विस वोटर्स एवं महिलाओं को वोट करने के लिए जागरूक किया जाना है। उन्होंने कहा कि स्कूल एवं कॉलेज स्तर पर इलेक्ट्रॉल लिट्रेसी क्लब का गठन किया जाये। जिलों में मतदाता जागरूकता क्लब का गठन तथा चुनाव पाठशालाओं का आयोजन किया जाये। हर घर से एक मोबाईल नंबर लिया जाये, ताकि मतदान जागरूकता के लिए एस.एम.एस. किये जा सके।

कार्यशाला में मतदाता जागरूकता एवं वोटर टर्नआउट वृध्दि के परिप्रेक्ष्य में स्वीप गतिविधियां, आगामी विधानसभा निर्वाचन 2018 हेतु निर्धारित स्वीप कैलेन्डर के क्रियान्वयन पर चर्चा, जिला स्तर पर किये गये नवाचार एवं आगामी कार्ययोजना पर चर्चा की गई।

कोई जवाब दें