वाराणसी: काशी की धरती पर विदेशी राष्ट्रध्यक्षों का आगमन लगातार जारी है. जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बाद अब इस कड़ी में एक नया नाम जुड़ने वाला है. जानकारी के मुताबिक 12 मार्च को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों वाराणसी आ रहे हैं. भारत सरकार मैक्रों के स्वागत में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती. उनके स्‍वागत के लिए यहां खास तैयारियां की गई हैं. स्‍वयं प्रधानमंत्री मोदी, मैक्रों के साथ बीते साल पेरिस में हुई अपनी गर्मजोशी पूर्ण मुलाकात को एक बार फिर से दोहराना चाहेंगे. जानकारी के मुताबिक मैक्रों सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी का दौरा भी करेंगे. वाराणसी में वैदिक मंत्रोच्चार और शहनाई वादन से फ्रांस के राष्ट्रपति का भव्य स्वागत किया जाएगा. वाराणसी में उनके स्वागत के लिए कई सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जा रहा है.

प्रस्तावित यात्रा के अनुसार फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को प्रधानमंत्री पीएम मोदी दीनदयाल हस्तकला संकुल ले जाएंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम मोदी इस सेंटर को बनारस व्यापार का हब बनाना चाहते हैं. माना जा रहा है कि फ्रांस के राष्ट्रपति के साथ उनके प्रतिनिधिमंडल के दौरे से स्थानीय व्यापार को बढ़ाने का बड़ा अवसर मिलने की उम्मीद की जा रही है.

जानकारी के मुताबिक फ्रांस के राष्‍ट्रपति वाराणसी दौरे के दौरान प्रसिद्ध अस्सी घाट भी जाएंगे. वह हाउस बोट से गंगा की सैर करेंगे और उन्‍हें वाराणसी के घाटों पर झांकियां भी दिखाई जाएंगी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गंगा में नौका विहार और घाट किनारे राजमहल में बैठ कर गंगा के नजारे दिखाना व हाउसबोट कैलाश से गंगा की सैर के बहाने यहां के पर्यटन को बढ़ावा देने की तैयारी है.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों चार दिन की भारत यात्रा पर आज दिल्ली पहुंचेंगे. मैक्रों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय सौर ऊर्जा गठबंधन सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे. दोनों देशों के बीच व्यापार, रक्षा और ऊर्जा सहयोग के क्षेत्र में अहम समझौते होने की उम्मीद है.

भारत में 11 मार्च को आयोजित हो रहे अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) सम्मेलन में शामिल होने के लिए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैकरॉन आज भारत दौरे पर आ रहे हैं. इमैनुएल चार दिवसीय भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आर्थिक, राजनीतिक, रणनीतिक और न्यूक्लियर पावर प्रोजेक्ट पर बातचीत करेंगे. फ्रांस के राष्ट्रपति की यह पहली भारत यात्रा होगी.

कोई जवाब दें