राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने आज पश्‍चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के रघुनाथगुंज में श्रीमती गौरी सरकार को प्रधानमंत्री उज्‍ज्वला योजना के तहत ढाई करोड़ वां गैस कनेक्‍शन वितरित किया। इस अवसर पर जांगीपुर में आयोजित एक समारोह में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान सांसद श्री अभिजीत मुखर्जी भी उपस्‍थित थे। प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना के तहत गरीबी की रेखा से नीचे जीवन बसर करने वाली महिला लाभार्थियों को दिया जाने वाला यह ढाई करोड़ वां एलपीजी कनेक्‍शन था।

प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना के अंतर्गत राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने आज 11 महिलाओं को यह कनेक्‍शन वितरित किया। इस अवसर पर प्रसन्नता व्‍यक्‍त करते हुए उन्‍होंने कहा कि 14 महीनों के अंतराल में यह आंकड़ा ढाई करोड़ को पार कर गया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने उत्‍तर प्रदेश के बलिया में 1 मई, 2016 को प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना का शुभारंभ किया था। इस योजना से देशभर में विशेषकर उन महिलाओं के जीवन में परिवर्तन आया है जो साधन विहिन थीं और गरीबी की रेखा से नीचे जीवन बसर कर रही थीं।

इस अवसर पर श्री धमेन्‍द्र प्रधान ने राष्‍ट्रपति का धन्‍यवाद करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना के तहत ढाई करोड़ वें एलपीजी कनेक्‍शन वितरण के लिए उन्‍होंने अपना अमूल्‍य समय प्रदान किया है। प्रधानमंत्री द्वारा 1 मई , 2016 को उत्‍तर प्रदेश के बलिया में शुरू हुई। इस योजना के तहत अब तक 2 करोड़ 49 लाख एलपीजी कनेक्‍शन वितरित किए जा चुके हैं। इनमें से सर्वाधिक (55 लाख) कनेक्‍शन उत्‍तर प्रदेश में जारी किए गए हैं। उन्‍होंने बताया कि पश्‍चिम बंगाल में एलपीजी कनेक्‍शन वितरण की संख्‍या उत्‍तर प्रदेश के बाद सर्वाधिक है। उन्‍होंने बताया कि पश्‍चिम बंगाल में एलपीजी कनेक्‍शन मुहैया कराने के लिए 600 से अधिक वितरकों को शामिल किया गया है। इनमें से मुर्शिदाबाद जिले में 50 वितरक शामिल हैं।

इस योजना के तहत 2019 तक गरीबी की रेखा के नीचे जीवन बसर करने वाली 5 करोड़ महिलाओं को एलपीजी कनेक्‍शन उपलब्‍ध कराया जाएगा। योजना के तहत 2019 तक देश की सभी घरों में एलपीजी कनेक्‍शन मुहैया कराए जाने के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने के लिए 10 करोड़ नए एलपीजी कनेक्‍शन उपलब्ध कराए जाएंगे। देश के इतिहास में पहली बार पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय करोड़ों गरीब महिलाओं के लिए कल्‍याण योजना को लागू कर रही है।

गरीबी की रेखा के नीचे जीवनयापन कर रहे परिवारों की पहचान 2011 की सामाजिक, आर्थिक जाति योजना (एसईसीसी) के आंकड़ों के तहत की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत महिला लाभार्थी को 1600 रूपये की सहायता भी दी जा रही है। इसमें 14.2 किलोग्राम सिलिंडर की सिक्‍योरिटी जमा, प्रेशर रेग्‍युलेटर, सुरक्षा हॉज, गैस उपभोक्‍ता कार्ड और गैस लगाने का चार्ज शामिल है।

2016-17 के वित्‍त वर्ष में तेल विपणन कंपनियां देशभर में तीन करोड़ 25 लाख नए कनेक्‍शन उपलब्‍ध कराएगी। किसी भी वर्ष की तुलना में एलपीजी कनेक्‍शन वितरण की यह संख्‍या सर्वाधिक है।

पिछले तीन वर्षों के दौरान देश में एलपीजी कनेक्‍शन की मांग में भारी बढ़ोतरी हुई है। तीन वर्षों के दौरान पांच हजार से अधिक नए वितरक शामिल किए गए हैं। प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना के तहत एलपीजी की मांग को पूरा करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में वितरकों को प्राथमिकता दी गई है।

कोई जवाब दें