नरसिंहपुर | जिले के ग्राम सिंहपुरबड़ा के शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल परिसर में स्कूल चलें हम अभियान का जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में प्रदेश के लोक निर्माण, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री तथा नरसिंहपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं खंडवा सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने शाला प्रवेशोत्सव के अवसर पर नवप्रवेशी बच्चों का तिलक लगाकर एवं माला पहनाकर स्वागत किया और उन्हें पुस्तकें वितरित कीं। पुस्तकें पाकर बच्चों के चेहरे खिल उठे। कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा कक्षा 12 वीं में 90 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली छात्रा कु. सोनम कुशवाहा का सम्मान किया गया। श्री चौहान ने घंटी बजाकर स्कूल चलें हम अभियान का शुभारंभ किया।

कार्यक्रम में सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह, अपैक्स बैंक के पूर्व उपाध्यक्ष श्री कैलाश सोनी, कलेक्टर डॉ. आरआर भोंसले, सीईओ जिला पंचायत सुश्री प्रतिभा पाल ने भी नवप्रवेशी बच्चों का स्वागत किया और उन्हें पुस्तकें वितरित की।

इस अवसर पर जनपद सदस्य श्री हीरीलाल कोरी, सरपंच श्रीमती प्रतिभा महाजन, एसडीएम श्री जीएस धुर्वे, जिला शिक्षा अधिकारी श्री जेके मेहर, डीपीसी श्री एसके कोष्टी, अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण, शिक्षक- शिक्षिकायें, अभिभावकगण, बड़ी संख्या में स्कूली बच्चें और ग्रामीणजन मौजूद थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह ने कहा कि शिक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्णय लिया है कि प्रदेश के प्रतिभावान विद्यार्थियों की 12 वीं के बाद भी पढ़ाई की फीस सरकार भरेगी। इसे लागू करने के लिए इसी शैक्षणिक सत्र से मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना लागू की गई है। योजना में माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित 12 वीं परीक्षा में 75 प्रतिशत या उससे अधिकतम अंक अथवा सीबीएसई/ आईसीएसई की 12 वीं परीक्षा में 85 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को इसका लाभ मिलेगा। उन्होंने छात्र- छात्राओं से कहा कि मन लगाकर अपनी पढ़ाई करें और अपने गांव, जिला व प्रदेश का नाम रोशन करें।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं खंडवा सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने कार्यक्रम में कहा कि बच्चे राष्ट्र की सम्पत्ति है। इन बच्चों को इस तरह की शिक्षा मिले कि वे देश के अच्छे नागरिक और परिवार के अच्छे सदस्य बनें। उन्होंने कहा कि जो शिक्षा दे रहे हैं, उन्हें ईश्वर ने बच्चों के भविष्य निर्माण का मौका दिया है। माता- पिता के बाद सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति शिक्षक ही होता है, जो बच्चों का भविष्य गढ़ता है। उन्होंने कहा कि गांव में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। इन्हें ढूंढ़कर तराशने की आवश्यकता है। यह कार्य शिक्षक बखूबी कर सकते हैं।

सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह ने शाला प्रवेशोत्सव के अवसर पर नवप्रवेशी बच्चों और उनके अभिभावकों को शुभकामनायें दी। उन्होंने कहा कि पढ़- लिखकर खूब नाम कमायें और अपनी शाला, गांव और प्रदेश का नाम रोशन करें।

कलेक्टर डॉ. आरआर भोंसले ने कहा कि छोटे बच्चे गीली मिट्टी की तरह होते हैं, उनमें कुछ भी बनने की क्षमता होती है। बच्चों को हर रचनात्मक गतिविधि में शामिल किया जाना चाहिये, जिससे बच्चों के व्यक्तित्व का विकास हो। जो बच्चे पहली कक्षा में प्रवेश ले रहे हैं, उनका स्कूल में मन लगे। हमें ऐसा वातावरण बनाये रखना है, जिसमें बच्चे खुश रहकर पढ़ाई करें।

जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री पाल ने कहा कि आगामी दो जुलाई को जिले में वृहद स्तर पर पौधा रोपण किया जाना है। इस कार्य में छात्र- छात्रायें भी बढ़चढ़कर सहभागिता करें। शिक्षा विभाग ने कार्यक्रम में अतिथियों को स्कूल चलें हम अभियान के स्मृति चिन्ह भेंट किये।

कोई जवाब दें